संवाद जन सरोकारों का....

आरूषी निशंक के डेब्यू सांग वफा ना रास आयी ने यूट्यूब पर दस करोड़ व्यूज किये पार

खबर सुने

मनोरंजन डेस्क । केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक की बेटी आरूषी निशंक का टी-सीरीज के बैनर तले नवीनतम संगीत वीडियो वफा ना रास आये में उनका पहला डेब्यू दर्शकों से जबरदस्त प्रतिक्रियाएं एकत्रित कर रहा है। गीत रिलीज होने के बाद यूट्यूब पर सामूहिक रूप से दस करोड़ व्यूज को पार कर चुका है। उनको अपने प्रशंसकों इस डेब्यू के लिए बहुत सराहना मिल रही है।

वीडियो बनाने की अपनी यात्रा पर अरुशी ने कहा- यह मेरे लिए वास्तव में चुनौतीपूर्ण था क्योंकि यह मेरा पहला प्रोजेक्ट था और मैं शायद ही तकनीकी भाषा जानती थी लेकिन उनके सह-अभिनेता और निर्देशक वीडियो शूटिंग के दौरान इतने मददगार थे कि यह शूट आसानी से पूरा हो गया।

यह वीडियो सॉन्ग इस वर्ष जनवरी के महीने में कश्मीर में शूट किया गया था। इतने प्रतिकूल मौसम में शूट करना वास्तव में कठिन था, शूटिंग मुख्य रूप से श्रीनगर में हुई थी। हमें बर्फबारी से बचने के लिए सुबह से ही शुरुआत करनी होती थी। यह मौसम की वजह से वास्तव में चुनौतीपूर्ण था इसकी शूटिंग मुख्य रूप से श्रीनगर में हुई थी और हमें बर्फबारी से बचने के लिए सुबह से ही शुरुआत करनी होती थी।

यह मौसम की वजह से वास्तव में चुनौतीपूर्ण था लेकिन एक साथ वफा ना रास आई की यात्रा आनंदमय थी ”। इस गाने को उत्तराखण्ड के प्रसिद्ध बॉलीवुड प्लेबैक सिंगर जुबिन नौटियाल ने गाया है और वीडियो का निर्देशन आशीष पांडा ने किया है। श्वफा ना रास आयी। आरुषि निशंक का पहला गाना है। इस वीडियो में हिमांश कोहली और रोहित सुचांती ने अभिनय किया है।

उत्तराखण्ड की रहने वाली आरुषी युवाओं खासकर महिलाओं पर काफी प्रभाव छोड़ने में कामयाब रही हैं। उन्हें भारत सरकार और उत्तराखण्ड द्वारा कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। वह सरकार के नेतृत्व में सामाजिक सुधार कार्यक्रमों के एक सक्रिय प्रवर्तक भी हैं। उन्होंने अपनी प्रतिभा द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में अपनी पहचान स्थापित की है। वैश्विक ख्याति के एक समर्पित कथक नर्तक होने के अलावा उन्होंने उद्यमिता, कविता और साहित्य, फिल्म निर्माण के क्षेत्र में भी काम किया है । वह गंगा नदी के स्वच्छ अभियान की भी स्तंभ रही हैं।

आरुषी निशंक ने 2008 में स्पर्शगंगा अभियान में सक्रिय रूप से शामिल होकर पर्यावरण के क्षेत्र में योगदान दिया है और गंगा को प्रदूषण और अशुद्धियों से मुक्त करने का संकल्प लिया है। आरुषी पर्यावरणीय चिंताओं और सतत विकास के लिए एक प्रमुख आवाज बन गई हैं। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय महिला सशक्तिकरण शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता की है, जिसे संयुक्त राष्ट्र का भी समर्थन प्राप्त था।

वह इन माध्यमों के जरिए कम लिंगानुपात की समस्या, विभिन्न क्षेत्रों में महिलाओं की भागीदारी, महिला सुरक्षा और महिला के लिए आर्थिक स्वतंत्रता में सुधार के लिए काम कर रही हैं। उनकी दो पुस्तकें भी प्रकाशित हुई हैं। “धरती स्वर्ग बनुंगी” और “कलाम मशाल बन जाए”।वह एक अंतरराष्ट्रीय स्तर की भारतीय शास्त्रीय नृत्य कथक नृत्यांगना भी । उन्होंने 16 साल की अवधि में 15 से अधिक देशों में अपनी कला का प्रदर्शन किया है। आरुषी ने हिम श्रीफिल्म्स नाम से अपना खुद का प्रोडक्शन हाउस स्थापित किया। वर्ष 2018 में, उन्होंने हिमश्रीफिल्म्स के तहत एक क्षेत्रीय फिल्म “मेजर निराला” का निर्माण किया। वर्ष 2019 में, उनको को फोर्ब्स मध्य पूर्व ने एक “गर्ल पावर” के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: