खबर सुने

न्यूज डेस्क / देहरादून । फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन खुश है कि माननीय वित्त मंत्री ने अपेक्षित स्क्रेपेज नीति की घोषणा की है, जिसके द्वारा पुराने वाहनों को फेज आउट किया जायेगा। अगर हम 1990 को बेस ईयर के रूप में लेते हैं, तो लगभग 37 लाख कमर्शियल व्हीकल और 52 लाख पैसेंजर व्हीकल स्वैच्छिक रूप से स्क्रैपपेज पालिसी के योग्य हैं।

एक अनुमान के रूप में, कमर्शियल व्हीकल के 10 प्रतिशत और पैसेंजर व्हीकल के 5 प्रतिशत अभी भी सड़क पर चल रहे हैं। रिटेल पर पॉजिटिव प्रभाव पड़ेगा, इसके लिए हमे अभी भी बारीकी से प्रस्तावित प्रोत्सान को देखने की जरूरत है

तमिलनाडु, केरल, पश्चिम बंगाल और असम में प्रस्तावित 6,575 किलोमीटर राजमार्ग और भारत माला परियोजना के लिए और 19,500 किलोमीटर का काम निश्चित रूप से कमर्शियल वाहनों विशेष रूप से मेडियम एंड हैवी कमर्शियल के लिए रिवाइवल का काम करेगा

स्टील उत्पादों पर सीमा शुल्क में सरकार द्वारा 7.5 प्रतिशत की कटौती करने से ऑटो निर्माताओं को लाभ होगा। इसलिए हम उम्मीद करते हैं कि ग्राहकों को भी लाभ होगा, जिससे ग्राहकों की डिमांड बढ़ाने में मदद मिलेगी। जहां हम उम्मीद कर रहे थे की आईटी स्लैब में वृद्धि और डेप्रिसिएशन बेनिफिट से इंडिवीडुअल्स डिस्पोजेबल इनकम में वृद्धि होगी परन्तु इन दोनो ही उमीदो पर ध्यान नहीं दिया गया

Previous articleक्या उत्तराखंड के लोग क्षेत्रीय नेतृत्व नही कर सकते ? – संजय कुण्डलिया
Next articleजीआईसी नारायणबगड़ में एनसीसी कैडेट्स के लिए आयोजित तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का समापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here