संवाद जन सरोकारों का....

एक्‍सपर्ट के बताए ये 5 कौशल रख सकते हैं आपके रिश्‍ते को लंबे समय तक सुरक्षित

खबर सुने

टिप्स टुडे। प्‍यार सिर्फ एक सप्‍ताह या एक महीने का सेलिब्रेशन भर नहीं है। यह हर मनुष्‍य की नैसर्गिक आवश्‍यकता है। प्‍यार ही है जो हमें तमाम चुनौतियों और संघर्षों के बावजूद एक-दूसरे से जोड़े रहता है। पर क्‍या आप जानती हैं कि इसे बनाए रखने के लिए भी कौशल की आवश्‍यकता होती है? जी हां, यह हम नहीं कह रहे। कई अध्‍ययनों में यह बात साबित हो चुकी है। फि‍जियोलॉजी विशेषज्ञ भी मानते हैं कि थोड़ा सा ध्‍यान दें तो आप इसे लंबे समय तक ताजा बनाए रख सकती हैं।

प्‍यार के बारे में क्‍या कहते हैं एक्‍सपर्ट

एक्‍सपर्ट की माने जो 20 से अधिक वर्षों से जोड़ों की मदद कर रहे हैं, उनका मानना ​​है कि रिश्ते में खुशी और संतुष्टि तीन मुख्य कारकों पर निर्भर करती है। इससे भी अधिक यह कि कारक सहज नहीं हैं, इन्हें सीखने और तैयारी की आवश्यकता होती है। कौशल विकसित करना होगा, जिसमें बहुत अभ्यास की जरूरत होती है। विंच के सहकर्मी अन्य आदतों के बारे में भी बात करते हैं जो कई सालों तक अपने रिश्तों से संतुष्ट रहने में मदद करते हैं।

हम यहां आपको मनोवैज्ञाविकों द्वारा सुझाए इन कौशल और आदतों के बारे में बता रहे हैं। मनोवैज्ञानिकों के अनुसार, इन कौशल और आदतों का अभ्यास उतना ही जरूरी है जितना की रोजाना अपने दातों को ब्रश करना।

यहां जानिए एक रिश्ते को कैसे लंबे समय तक जीवंत बनाए रखा जा सकता है

1. करुणा (Compassion)

करूणा एक अन्य व्यक्ति के स्थान पर खुद की कल्पना करने और उस पर कुछ प्रतिक्रिया देने की क्षमता है। उनका समर्थन करना या उन्हें आराम देना, एक साथ दुखी या खुश होना। कुछ वर्षों तक किसी के साथ रहने के बाद, आप यह सोच सकते हैं कि आप एक-दूसरे को अच्छी तरह से जानते हैं। हालांकि, यह रिश्ते में आपसी सहानुभूति विकसित करने के आपके रास्ते में एक बाधा हो सकती है।

इस गलती से बचने के लिए, अपनी करुणा का अभ्यास करें। अपने आप को किसी और की जगह रखकर सोचने की कोशिश करें। अपनी आंखें बंद करें और व्यक्ति के चरित्र और परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए, कल्पना करने की कोशिश करें कि उन्हें कैसा महसूस करना चाहिए। समस्या पर अपनी राय भूल जाएं, दूसरे व्यक्ति की भावनाओं को समझने की कोशिश करें। यह आपको सहानुभूति दिखाने की अनुमति देगा, जो एक खुशहाल और स्वस्थ रिश्ते के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

2. भावनात्मक समझ (Emotional Understanding)

पिछला बिंदु इसी की ओर जाता है। हमारा मतलब है कि जब आप मुसीबत में होते हैं तो आप अपने आप को किसी और की जगह रखकर सोचने में सक्षम नहीं होते। बल्कि आप दोनों के बीच एक बहस के दौरान भी यह महत्वपूर्ण है। बेशक, एक तर्क के दौरान, बहुत कम लोग ही ऐसा कहते हैं, “आपको इस तरह से महसूस करने का अधिकार है, और मैं इसे समझता हूं।” ऐसा लगता है जैसे यह कह रहा है कि यह केवल चीजों को बदतर कर सकता है, लेकिन यह ऐसा नहीं कर सकता है। इन शब्दों का चमत्कारी प्रभाव हो सकता है। आपका साथी पाएगा कि आप उनकी भावनाओं को समझते हैं और, भले ही वे परेशान हों, जो उन्हें लगता है उसे स्वीकार करें। इस धारणा से राहत महसूस होती है और नकारात्मक भावनाओं को भूल जाते हैं।

3. ध्यान और विनम्रता (Attention And Politeness)

हम सभी विनम्रता और ध्यान के छोटे कार्यों के महत्व को कम आंकते हैं। रिश्तों में एक दुष्चक्र अक्सर दिखाई देता है: एक साथी से दिखाता है कि वह परेशान है, दूसरा भी ऐसा ही करता है और यह इस सब कुछ को एक गंभीर संघर्ष की ओर ले जाता है।

उस मामले में, ध्यान – फूलों के गुलदस्ते की तरह, एक पसंदीदा कैंडी बार, एक स्वादिष्ट डिनर, या एक हग । जो कि आसानी से इस सर्कल को तोड़ने में मदद कर सकता है। निश्चित रूप से, यदि आप किसी को पीड़ित कर चुके हैं, तो इस प्रकार की स्थिति पर ध्यान और विनम्रता से इसका समाधान नहीं किया जा सकता है। लेकिन अगर स्थिति अभी भी खराब नहीं है, तो इस रणनीति को आजमाने से ना चूकें।

4. पार्टनरशिप (Partnership)

कुछ जोड़ों को इसकी आदत होती है कि वे एक-दूसरे को रूममेट्स मानने लगते हैं। ऐसे में दोनों ही अपना अलग जीवन जीना शुरू कर देते हैं। इस स्थिति में, कुछ लोग निर्णय लेते समय अपने पार्टनर की राय को अनदेखा करते हैं। यह सबसे खराब चीज है जो आप कर सकते हैं। इस दृष्टिकोण से अक्सर चर्चाओं और रुकावटों के बढ़ने की संभावना है। इससे बचने के लिए, आपको अपने साथी की राय को ध्यान में रखते हुए महत्वपूर्ण निर्णय लेने होंगे। क्योंकि ये निर्णय आपके और आपके साथी के जीवन को प्रभावित करने की संभावना रखते हैं।

5. भावनात्मक स्वच्छता (Emotional Hygiene)

बहुत कम लोग अपने मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य पर उतना ध्यान देते हैं जितना कि वे अपने शारीरिक स्वास्थ्य के लिए करते हैं। हालांकि हमें शारीरिक चोटों की तुलना में मनोवैज्ञानिक चोटें अधिक दुख देती हैं।

एक्‍सपर्ट आश्वस्त है कि आपके मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य के लिए सबसे बुरा दुश्मन अफवाह है।

अफवाह एक ही चीज को लेकर बार-बार सोचने के बारे में है। जैसे जब आप किसी चीज में असफल होते हैं या किसी रिश्ते में रिजेक्ट हो जाते हैं, तो आप लंबे समय तक उसके बारे में सोचते रहते हैं। एक्‍सपर्ट  का मानना ​​है कि जब भी आप नकारात्मक चीजों के बारे में सोचना शुरू करते हैं, तो आपको सोचने के लिए जानबूझकर कुछ सकारात्मक करना चाहिए। कुछ मिनटों के बाद, आप अच्छी चीजों के बारे में सोचेंगे और समय के साथ यह एक आदत बन जाएगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: