संवाद जन सरोकारों का....

फिनो पेमेंट्स बैंक ने डेली डिपॉझिट बॅलेन्स लिमिट को 2 लाख रुपये तक बढ़ाया

खबर सुने

न्यूज डेस्क / देहरादून। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के संशोधित दिशानिर्देशों के अनुरूप, फिनो पेमेंट्स बैंक ने अपने ग्राहकों के खाते की डेली डिपॉझिट लिमिट राशि 2 लाख रुपए तक बढ़ा दी है। फिनो पेमेंट्स बैंक , जिसने आर्थिक वर्ष 2020 की चौथी तिमाही में लाभ कमाया था, अपनी नई डिपॉझिट लिमिट को 1 मई 2021 से लागू किया।

आरबीआई द्वारा 2014 की भुगतान बैंकों पर जारी शुरवाती दिशानिर्देशों के अनुसार, जमा सीमा 1 लाख रुपये थी। 7 अप्रैल, 2021 की आरबीआई अधिसूचना के अनुसार, “भुगतान बैंकों के प्रदर्शन की समीक्षा करने के बाद और उनके वित्तीय समावेशन के प्रयासों को प्रोत्साहित करने के लिए, व्यक्तिगत ग्राहकों के दिन के अंत तक अधिकतम बैलेंस सीमा 1 लाख रुपये से 2 लाख रुपये करने का निर्णय लिया गया है।

अपने नजदीकी फिनो बैंकिंग पॉईन्ट पर ग्राहक नगद जमा या निकाल सकते है तथा मनी ट्रान्सफर कर सकते है। इस महामारी के वक्त सुविधाजनक बैंकिंग सेवा प्राप्त करने के लिए किसी भी बॅंक का ग्राहक अपने नजीदिकी फिनो पॉईन्ट को यूआरएल https://fino.latlong.in/ को क्लीक कर के या क्युआर को स्कॅन करके या 9008890088 पर अपना पिनकोड एसएमएस करके आसानी से ढुंढ सकते है ।

डेली डिपॉझिट लिमिट की घोषणा करते हुए फिनो पेमेंट्स बैंक के सीओओ आशीष आहूजा ने कहा, “ आरबीआई के निर्देशों के अनुसार हमने अपने सिस्टम और प्रोसेस को बेहतर बनाया और 1 मे 2021 से लागू किया । इससे हमारे ग्राहक अपने खाते में अधिक धन बचा सकते है। इसके इलावा हमारी वर्तमान स्वीप खाता प्रणाली हमारे सहयोगी बैंक के साथ जारी है, जिसमे ग्राहक 2 लाख रुपये से अधिक धनराशी बचा सकते हैं। ” फिनो खाते में 2 लाख रुपये तक की बचत पर मौजुदा ब्याज दर लागू रहेगा ।

जो धनराशी स्वीप खाते में है उसका ब्याजदर हमारा सहयोगी बैंक सूर्योदय लघु वित्त बैंक द्वारा निर्धारित किया जाएगा। बैंक के डिपॉजिट्स को डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (डीआईसीसीआई) के तहत बीमा किया जाता है, जो आरबीआई की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी हैं। डिपॉजिट लिमिट बढने से वित्तीय समावेश को प्रोत्साहन मिलेगा जिसके तेहत अधिक लोग बैंकिंग क्षेत्र में शामिल होंगे। एमएसएमई, छोटे व्यापारी और दुकानदारों से अपेक्षा की जाती है की वे इस सेवा से अपना समय बचा सकते है और बेहतर वित्तीय योजना बना सकते है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: