संवाद जन सरोकारों का....

भगवान बद्री विशाल के कपाट खुलने की तैयारियां शुरू

खबर सुने

स्थानीय संपादक / बद्रीनाथ,चमोली। भगवान बद्री विशाल के कपाट खुलने की तैयारियां शुरू हो गई हैं। 18 मई को भगवान बद्रीविशाल के कपाट पूजा अर्चना व पारंपरिक विधिविधान के साथ श्रद्धालुओं के दर्शनों के लिए खोल दिए जायेंगे।आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी भी जोशीमठ से बद्रीनाथ के लिए रवाना हो गई है।
गौरतलब है कि इस बार कोविड महामारी के चलते तीर्थ यात्रियों के लिए उत्तराखंड के चारों धामों की यात्राएं स्थगित कर दी गई हैं। इसके बाबजूद परंपराओं के अनुसार प्रतीकात्मक रूप से भगवान बद्री विशाल,केदारनाथ, यमनोत्री व गंगोत्री तीर्थ धामों के कपाट खोले जायेंगे।

17 मई को पांडुकेश्वर से उद्धव और कुबेर जी भी बद्रीनाथ धाम के लिए रवाना होंंगे।सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार इसबार लगभग 50 लोगों को ही बद्रीनाथ धाम जाने की अनुमति मिली है।

18 मई को भू-बैकुंठ में श्री बद्रीनाथ धाम के कपाट वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ 4:15 पर ग्रीष्म काल के लिए खोल दिए जाएंगे इससे पहले रविवार को आदि गुरु शंकराचार्य की भूमि जोशीमठ से शंकराचार्य जी की पावन गद्दी और गाडू घडा /तेल कलश योग ध्यान बद्री पांडुकेश्वर से रवाना हुआ।

रविवार को जोशीमठ के नरसिंह मंदिर में मुख्य पुजारी रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी की उपस्थिति में लक्ष्मी मंदिर में मां लक्ष्मी की विशेष पूजा अर्चना की गई ।

इस दौरान धर्माधिकारी,अपर धर्माधिकारी ,वेद पाठी, स्थानीय हक हकुक धारियों के साथ-साथ कुल पुरोहित सुशील प्रसाद सती ने शंकराचार्य जी की गद्दी को रवाना करने से पहले वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ पूजा अर्चना की।

परंपराओं के अनुसार कपाट खुलने से 2 दिन पूर्व आदि गुरु शंकराचार्य जी की पावन गद्दी हर्ष उल्लास के साथ जोशीमठ के नृसिंह मंदिर से पांडुकेश्वर के लिए रवाना की जाती है। हालांकि कोविड-19 के चलते सीमित संख्या में गद्दी के दर्शनों के लिए भगवान बद्री विशाल के स्थानीय भक्त नरसिंह मंदिर पहुंचे और इस अवसर पर स्थानीय महिलाओं ने मांगलिक गीत गाकर भगवान बद्री विशाल की जय जय कार के नारे लगाए।

इस मौके पर बद्रीनाथ धाम के धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल ने बताया कि कपाट खुलने के दौरान भगवान बद्री विशाल से कोरोना संक्रमण जैसी खतरनाक बीमारी को दूर करने का आह्वान किया जायेगा ।
रिपोर्ट.. सुरेन्द्र धनेत्रा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: