संवाद जन सरोकारों का....

माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षा विभाग की ओर से नियुक्त परिचारकों के पदों पर बाहरी लोगों की नियुक्ति से स्थानीय लोग मे आक्रोश

खबर सुने

स्थानीय संपादक / नारायणबगड चमोली।
नारायणबगड विकास खण्ड के माध्यमिक विद्यालयों में शिक्षा विभाग की ओर से नियुक्त परिचारकों के पदों पर बाहरी लोगों की नियुक्ति किए जाने से स्थानीय लोग भड़क गए हैं।

बताते चलें कि यहां नारायणबगड में तीन माध्यमिक विद्यालयों में तीन परिचारकों की नियुक्ति की गई है।स्थानीय लोगों ने शनिवार को तहसील कार्यालय में पहुंचकर तहसीलदार के माध्यम से जिलाधिकारी को ज्ञापन प्रेषित किया, जिसमें उन्होंने आरोप लगाए हैं कि शिक्षा विभाग ने इसके लिए कोई भी विज्ञप्ति जारी नहीं की। और ना ही स्थानीय बेरोजगारों को बरियता दी गई ।

ज्ञापन में स्थानीय लोगों और जनप्रतिनिधियों का आरोप है , कि थराली विधायक ने शिक्षा विभाग पर दबाव बनाकर अपने रिश्तेदारों को परिचारकों के पदों पर नियुक्ति दिलाई है।इस मामले में विधायक से उनका पक्ष जानने के लिए दूरभाष पर संपर्क स्थापित नहीं हो पाया।बताते चलें कि यह मामलाअब तूल पकड़ता जा रहा है।

स्थानीय लोगों ने बताया कि माध्यमिक विद्यालय मींग में सन् 2014 तक गांव का ही विजय सिंह कठैत बिना मानदेय के परिचारक पद पर अपनी सेवाएं दे चुका है,और विजयसिंह कठैत ने अपने पुराने दस्तावेज उपलब्ध कराते हुए बताया कि 22-05-2014 को उसने जिला शिक्षा अधिकारी को पत्र भेजकर अनुरोध किया था कि भविष्य में जब भी विद्यालय में परिचारक की नियुक्ति की जायेगी तो उसे प्राथमिकता के आधार पर नियुक्ति दी जाये।

उसके पत्र में तत्कालीन विद्यालय के प्रधानाचार्य की टिप्पणी भी दर्ज है कि….सबल संस्तुति सहित कार्यवाही के लिए अग्रसारित की जाती है।इसी तरह जीआईसी विद्यालय कोब में भी हरिकृष्ण लाल 25 फरवरी 2019 से वर्तमान तक परिचारक की सेवाएं दे रहा है।और वहां अब नियुक्ति होने के बाद उसे पद से हटने के लिए कहा जा रहा है।

जिससे उसके सामने रोजगार नकी समस्या उत्पन्न हो गई है।पूर्व ग्राम प्रधान मींग महिपाल सिंह रावत और पूर्व जिला पंचायत सदस्य प्रदीप सिंह बुटोला आदि लोगों ने कहा कि मींग गांव के लोगों ने अभी दो साल पहले ही में क्षेत्र में महाविद्यालय के लिए अपनी उपजाऊ कृषि भूमि निशुल्क दान दी है।

ऐसे में यहां स्थापित सरकारी उपक्रमों में स्थानीय बेरोजगारों को नौकरी में प्राथमिकता दी जानी चाहिए, कहा कि मींग और बैनोली गांव में तीन विधवा पीआरडी की महिलाएं भी हैं जिनमें से एक को उसके घर मींग मे ही नियुक्ति देने के बजाय दूरस्थ जीआईसी कौब म़े तैनात किया गया है।

तहसीलदार सुरेन्द्र सिंह देव ने बताया कि क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों व ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को संबोधित ज्ञापन में स्कूलों में नियुक्त बाहरी परिचारकों को हटाकर स्थानीय बैरोजगारों व विधवा महिला पीआरडी को बरीयता देने की मांग की है।कहा कि ज्ञापन को जिलाधिकारी को प्रेषित कर दिया जायेगा।

ज्ञापन देने वालों में दिनेश सती,विजयसिंह कठैत, सुरेशानंद भारद्वाज,शेखर नेगी,भुवन सती,सूरज बुटोला,कमलेश नेगी आदि थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: