Home International पाकिस्तान को गुपचुप बैलिस्टिक मिसाइल के उपकरण पहुंचा रहा चीन, अमेरिका ने...

पाकिस्तान को गुपचुप बैलिस्टिक मिसाइल के उपकरण पहुंचा रहा चीन, अमेरिका ने पकड़ा, अब की बड़ी कार्रवाई

0

बीएसएनके न्यूज डेस्क/अंतरराष्ट्रीय :- विदेश विभाग की ओर से कहा गया कि पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना में स्थित इन तीन कंपनियों ने पाकिस्तान के बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम के लिए मिसाइल से संबंधित वस्तुओं की आपूर्ति करने का काम किया है। इसलिए इनपर प्रतिबंध लगाया जा रहा है।

अमेरिका ने चीन की कंपनियों पर बड़ी कार्रवाई की है। उसने पाकिस्तान को बैलिस्टिक मिसाइल के उपकरण मुहैया कराने के लिए ड्रैगन की तीन कंपनियों पर प्रतिबंध लगाया है। अमेरिकी विदेश विभाग ने शुक्रवार को बताया कि प्रतिबंध अंतरराष्ट्रीय परमाणु अप्रसार और निरस्त्रीकरण शासन के तहत लगाए गए हैं।

विदेश विभाग की ओर से कहा गया कि पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना (पीआरसी) में स्थित इन तीन कंपनियों ने पाकिस्तान के बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम के लिए मिसाइल से संबंधित वस्तुओं की आपूर्ति करने का काम किया है। इसलिए इनपर प्रतिबंध लगाया जा रहा है।

इन पर लगाया प्रतिबंध
चीन हमेशा से ही पाकिस्तान का सहयोगी रहा है। वह इस्लामाबाद के सैन्य आधुनिकीकरण कार्यक्रम में हथियारों और रक्षा उपकरणों का मुख्य आपूर्तिकर्ता रहा है। इन तीन कंपनियों में जनरल टेक्नोलॉजी लिमिटेड, बीजिंग लुओ लुओ टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट कंपनी लिमिटेड और चांगझोउ उटेक कंपोजिट कंपनी लिमिटेड शामिल हैं।

कंपनियों ने यह चीजें उपलब्ध कराईं
जनरल टेक्नोलॉजी लिमिटेड ने ब्रेजिंग सामग्री की आपूर्ति के लिए काम किया है, जिसका उपयोग बैलिस्टिक मिसाइल रॉकेट इंजन में किया जाता है। वहीं, बीजिंग लुओ लुओ टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट कंपनी लिमिटेड ने मैंड्रेल और अन्य मशीनरी की आपूर्ति करने के लिए काम किया है। इसके अलावा, चांगझोउ उटेक कंपोजिट कंपनी लिमिटेड ने साल 2019 से डी-ग्लास ग्लास फाइबर, क्वार्ट्ज कपड़े और उच्च सिलिका कपड़े की आपूर्ति के लिए काम किया है। इन सभी का मिसाइल सिस्टम में इस्तेमाल होता है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने कहा कि आज की कार्रवाई से यह स्पष्ट है कि अमेरिका सामूहिक विनाश के हथियारों के प्रसार, उनके वितरण के साधनों और संबंधित खरीद गतिविधियों के खिलाफ कार्रवाई करना जारी रखेगा। बता दें, प्रतिबंध पाकिस्तान द्वारा अबाबील बैलिस्टिक मिसाइल प्रणाली के प्रक्षेपण के कुछ दिन बाद लगाया गया है।