संवाद जन सरोकारों का....

’विरासत साधना’ कार्यक्रम के अंतर्गत ’विरासत साधना पेंटिंग प्रतियोगिता’ का आयोजन किया गया

इंडियन ओसियन बैड के अदभुत प्रस्तुति से प्रसन्न हुए विरासत में मौजूद लोग

खबर सुने

बीएसएनके न्यूज डेस्क / देहरादून। विरासत आर्ट एंड हेरीटेज फेस्टिवल 2022 के 11वें दिन की शुरुआत ’विरासत साधना’ कार्यक्रम के साथ हुआ। ’विरासत साधना’ कार्यक्रम के अंतर्गत ’विरासत साधना पेंटिंग प्रतियोगिता’ का आयोजन किया गया। इस प्रतियोगिता मे अलग-अलग विद्यालयों के बच्चों ने प्रतिभाग किया। पेंटिंग प्रतियोगिता से पहले विरासत साधना के कोऑर्डिनेटर ने सभी बच्चों को प्रतियोगिता के नियम बताएं और उसके बाद प्रतियोगिता की थीम । इस पेंटिंग प्रतियोगिता की थीम थी (अवर हेरिटेज) हमारा धरोहर। इस प्रतियोगिता में 16 विद्यालयों के 145 बच्चों ने प्रतिभाग किया एवं हर बच्चे ने अपनी काला का इस्तेमाल कर अलग-अलग प्रकार के चित्र बनाएं। यह प्रतियोगिता सुबह 11ः00 बजे से लेकर दिन के 1ः30 बजे तक चली। इस प्रतियोगिता का परिणाम 22 अक्टूबर को आएगा।

सांस्कृतिक संध्या कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्वलन के साथ हुआ एवं भाग्येश मराठे द्वारा शास्त्रीय संगीत (गायन) प्रस्तुत किय गया। भाग्येश ने अपने कार्यक्रम की शुरुआत राग मारू बिहाग में पारंपरिक ख्याल से की। विलाम्बित बंदिश “रसिया हो, ना जाओ“ और द्रुत बंदिश “बावरी भाई बिरहान“ थी। उनकी अगली प्रस्तुति राग सोहोनी में विलाम्बित ताल “जियारा रा, कल नहीं पावे“ और द्रुत ताल “प्यारा मेंदा मजार नहीं आवे“ में एक बंदिश थी। उनके साथ तबला पर पं. मिथिलेश झा, हारमोनियम पर जाकिर धौलपुरी जी, तानपुरा पर शैलेश रावत और उनके शिष्य सागर चावरिया भी तानपुरा पर उनके साथ थे।

भाग्येश मराठे, एक संगीत परिवार में पैदा हुए, वे महान भारतीय शास्त्रीय गायक संगीत भूषण पंडित राम मराठे के पोते हैं। उनका प्रदर्शन राग की उनकी विपुल समझ को दर्शाता है, जिससे संगीत प्रस्तुति की एक अनूठी शैली विकसित होती है। उन्होंने 4 साल की उम्र में तबला सीखना शुरू कर दिया था और लगभग 15 वर्षों तक श्री प्रभु घाटे, उनके चाचा श्री मुकुंद मराठे, पं मुकुंदराज देव और श्री गजानन राउल (उस्ताद अल्लार्खा खान साहब के शिष्य) थे।

भाग्येश ने मुंबई से सूचना प्रौद्योगिकी में स्नातक की डिग्री पूरी की, 19 साल की उम्र में, स्नातक के दूसरे वर्ष को पूरा करते हुए उनके पिता ने उन्हें संगीत में करियर बनाने के लिए प्रोत्साहित किया। अपने पिता की सलाह और आग्रह पर उन्होंने अपने दादा के गायन और गीतों और कई अन्य भारतीय शास्त्रीय गायकों को सुनना शुरू कर दिया।

वे अपने दादा पं कुमार गंधर्व के गायन की शैली से मंत्रमुग्ध थे। और वे इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने गायन को अपने पेशे के रूप में लेने का फैसला किया। उन्होंने अपने पिता पं संजय मराठे के मार्गदर्शन में संगीत सीखना शुरू किया। एवं एक सफल गायन को सिखा, उन्होंने पं केदार बोडा के साथ अपनी प्रतिभा में और महारत हासिल की।

सांस्कृतिक कार्यक्रम के अन्य प्रस्तुतियों में इंडियन ओसियन बैड ने अपनी प्रस्तुति दी। इंडियन ओसियन ने पिछले 33 वर्षों में अपरंपरागत आवाज और समाज के लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए नाम बनाया है। आज उन्होंने अपने आने वाले एल्बम के कुछ रिलीज़ ना किए गए गाने गाए। पीयूष मिश्रा द्वारा लिखित आगामी फिल्म “चक्की“ का उनका गाना, “सरपत आया कैसा खोखला जमाना रे ..“ लोगों के बीच बहुत हिट था। उन्होंने फिल्म “मसान“ सहित अपने कई पुराने और लोकप्रिय गाने गाए जिसने मंच पर धूम मचा दी और विरासत में मौजूद सभी दर्शकों को प्रसन्न कर लिया।

इंडियन ओसियन बैड 1990 में नई दिल्ली में गठित एक भारतीय रॉक बैंड है, जिसे व्यापक रूप से भारत में फ्यूजन रॉक शैली के लिए लोकप्रिय है। इस बैडं में मुख्य के रूप से निखिल राव, अमित किलाम, राहुल राम, हिमांशु जोशी और तुहीन चक्रवर्ती शामिल है।

बैंड की संगीत शैली को लोक और फ्यूजन संगीत के रूप में सर्वोत्तम रूप से वर्गीकृत किया जा सकता है। यह एक प्रायोगिक शैली है, जिसमें कभी-कभी भारतीय लोक गीतों का उपयोग करते हुए रॉक संगीत, गिटार और ड्रम के साथ राग (पारंपरिक भारतीय धुनों) को मिलाया जाता है। इसे कुछ संगीत आलोचकों द्वारा “जैज़-मसालेदार लय के साथ इंडो-रॉक फ्यूजन जो श्लोक, सूफीवाद, पर्यावरणवाद, पौराणिक कथाओं और क्रांति को एकीकृत करता है“ के रूप में वर्णित किया गया है।

2010 के बाद से, बैंड रिकॉर्ड लेबल की तर्ज पर आगे बढ़ गया है। उन्होंने अपना एल्बम “16/330 खजूर“ रोड ऑनलाइन मुफ्त में जारी किया। वे पांच चुनिंदा कलाकारों में से एक के रूप में डीआरपी नामक दुनिया की पहली संगीत वैयक्तिकरण पहल का भी हिस्सा हैं। वे “पिछले 25 वर्षों के 25 महानतम भारतीय रॉक गीतों“ की सूची में हैं, “रोलिंग स्टोन इंडिया“ में दो गाने, मा रीवा और कंडिसा एल्बम, कंडिसा (2000) से प्रदर्शित हैं।

कई पहलुओं ने इंडियन ओसियन बैड को अद्वितीय बना दिया है। एक इसकी ध्वनि है, जो भारतीय लोक और अर्ध-शास्त्रीय जड़ों को रॉक और जैज़ विभक्ति के साथ मिश्रित करती है। भारतीय और पश्चिमी संगीत दोनों पर इसके मूल दर्शकों के बढ़ने के साथ, पारंपरिक और समकालीन के मिश्रण से होना आसान था।

इंडियन ओसियन बैड को गैर-फिल्मी भारतीय-भाषा रॉक-आधारित संगीत के लिडर के रूप में वर्णित किया जा सकता है, कुछ ऐसा जो दो दशकों के बाद आज के स्वतंत्र संगीत परिदृश्य में विकसित हुआ है।

09 अक्टूबर से 23 अक्टूबर 2022 तक चलने वाला यह फेस्टिवल लोगों के लिए एक ऐसा मंच है जहां वे शास्त्रीय संगीत एवं नृत्य के जाने-माने उस्तादों द्वारा कला, संस्कृति और संगीत का बेहद करीब से अनुभव कर सकते हैं। इस फेस्टिवल में परफॉर्म करने के लिये नामचीन कलाकारों को आमंत्रित किया गया है। इस फेस्टिवल में एक क्राफ्ट्स विलेज, क्विज़ीन स्टॉल्स, एक आर्ट फेयर, फोक म्यूजिक, बॉलीवुड-स्टाइल परफॉर्मेंसेस, हेरिटेज वॉक्स, आदि होंगे। यह फेस्टिवल देश भर के लोगों को भारत की समृद्ध सांस्कृतिक धरोहर और उसके महत्व के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी प्राप्त करने का मौका देता है। फेस्टिवल का हर पहलू, जैसे कि आर्ट एक्जिबिशन, म्यूजिकल्स, फूड और हेरिटेज वॉक भारतीय धरोहर से जुड़े पारंपरिक मूल्यों को दर्शाता है।

रीच की स्थापना 1995 में देहरादून में हुई थी, तबसे रीच देहरादून में विरासत महोत्सव का आयोजन करते आ रहा है। उदेश बस यही है कि भारत की कला, संस्कृति और विरासत के मूल्यों को बचा के रखा जाए और इन सांस्कृतिक मूल्यों को जन-जन तक पहुंचाया जाए। विरासत महोत्सव कई ग्रामीण कलाओं को पुनर्जीवित करने में सहायक रहा है जो दर्शकों के कमी के कारण विलुप्त होने के कगार पर था। विरासत हमारे गांव की परंपरा, संगीत, नृत्य, शिल्प, पेंटिंग, मूर्तिकला, रंगमंच, कहानी सुनाना, पारंपरिक व्यंजन, आदि को सहेजने एवं आधुनिक जमाने के चलन में लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और इन्हीं वजह से हमारी शास्त्रीय और समकालीन कलाओं को पुणः पहचाना जाने लगा है।

विरासत 2022 आपको मंत्रमुग्ध करने और एक अविस्मरणीय संगीत और सांस्कृतिक यात्रा पर फिर से ले जाने का वादा करता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: